Daily Calendar

सोमवार, 16 दिसंबर 2013

बेहतरीन पंक्तियां


अलग से राग में गाना, तेरा अलग ही रंग में रंगना
यही दस्तूर है दुनिया का कहां इससे तुम अलग होगे
समय की तेजधारा में जो बहकर सीखते हो तुम
कहां तुम सीख पाते कभी साहिल पर खड़े होके
अजब की बात पर जो रोज तुम मुस्कुरा देते हो
कहां बातें कभी तुम मुस्कुरा के सोचते हो साहिब
सुखद एहसास की गर्मी ख्यालों में बसाकर तुम
दूसरों पर रोज हंसते हो कहां खुद पे कभी हंसते
तुम्हारी हर बात कितने ही सवालों का जवाब बनती
अगर दो बातें कभी तुम मुस्कुरा को जो कर देते

---गंगेश कुमार ठाकुर---

1 टिप्पणी:

  1. आपका ब्लॉग देखकर अच्छा लगा. अंतरजाल पर हिंदी समृधि के लिए किया जा रहा आपका प्रयास सराहनीय है. कृपया अपने ब्लॉग को “ब्लॉगप्रहरी:एग्रीगेटर व हिंदी सोशल नेटवर्क” से जोड़ कर अधिक से अधिक पाठकों तक पहुचाएं. ब्लॉगप्रहरी भारत का सबसे आधुनिक और सम्पूर्ण ब्लॉग मंच है. ब्लॉगप्रहरी ब्लॉग डायरेक्टरी, माइक्रो ब्लॉग, सोशल नेटवर्क, ब्लॉग रैंकिंग, एग्रीगेटर और ब्लॉग से आमदनी की सुविधाओं के साथ एक
    सम्पूर्ण मंच प्रदान करता है.
    अपने ब्लॉग को ब्लॉगप्रहरी से जोड़ने के लिए, यहाँ क्लिक करें http://www.blogprahari.com/add-your-blog अथवा पंजीयन करें http://www.blogprahari.com/signup .
    अतार्जाल पर हिंदी को समृद्ध और सशक्त बनाने की हमारी प्रतिबद्धता आपके सहयोग के बिना पूरी नहीं हो सकती.
    मोडरेटर
    ब्लॉगप्रहरी नेटवर्क

    उत्तर देंहटाएं