Daily Calendar

गुरुवार, 9 फ़रवरी 2012

संबंधों पर विचार करें






आओ अपने संबंधों पर विचार करें
थोड़ा तकरार और ज्यादा प्यार करें
खामोशी भी बेवजह नहीं होती
आओ खामोश रह कर इजहार करें
हम और तुम दोनों ही जानते हैं
कि तकरार से प्यार बढ़ता है
आओ इस सच्चाई को दोनों स्वीकार करें
प्यार कम न हो तेरे और मेरे दरम्यां
इसलिए आओ हम मीठी सी तकरार करें
शून्य से शुरू कर और अनन्त तक पहुंचकर
आओ हम तुम खुशियों का व्यापार करें
जिंदगी में हर कदम पर
उलझनें क्यूं होंगी खड़ी
आओ मिलकर खड़ी प्रेम की दीवार करें
पथिक हैं हम तुम पथविहीन रास्तों के
चलो पथनिर्माण की कला का विस्तार करें
जो हमसे तुमसे दुनियां कुछ सीख पाए
आओ अपनी लेखनी से ऐसा प्रेम का श्रृंगार करें
रंग में रंग डाले संबंधों को रंगरेज की तरह
आओ हम तुम मिलकर प्रेम का
आलिंगन पुन: स्वीकार करें
हम बहक जाएं कभी जो राह से बेराह हों
तुम मुझे समझा दो कि
हम किस तरह व्यवहार करें
जो हमें और तुम्हें दुनियां समझ पाए
आओ अपने ऐसे संबंधों पर विचार करें
हम-तुम पुनर्विचार करें
अपने संबंधों का फिर से विस्तार करें
थोड़ा तकरार और ज्यादा प्यार करें ।





1 टिप्पणी:

  1. जो हमें और तुम्हें दुनियां समझ पाए
    आओ अपने ऐसे संबंधों पर विचार करें
    हम-तुम पुनर्विचार करें
    अपने संबंधों का फिर से विस्तार करें

    फिर तो तकरार होगी ही नहीं..... सुंदर भाव

    उत्तर देंहटाएं