Daily Calendar

सोमवार, 27 दिसंबर 2010

छिन गया अदनान का आशियाना



मुंबई में आज प्रवर्त्तन निदेशालय ने पाकिस्तानी गायक कलाकार अदनान सामी की संपत्ति जब्त कर ली। अदनान सामी ने मुंबई के लोखंडवाला में करीब ढ़ाई करोड रुपये में आठ फ्लैट और पाँच पार्किंग स्पेस साल 2003 में खरीदा था।

कभी मुझको भी तूँ लिफ्ट करा दे.............. गाने से भारत और दुनियॉ के अन्य देशों में रहनेवाले हिन्दीभाषी लोगों के दिलों पर राज करने वाले पाकिस्तानी गायक कलाकार अदनान सामी अब मुश्किल में नजर आ रहे हैं। वजह कुछ ऐसी है कि गायक अदनान सामी पाकिस्तानी नागरिक हैं और इस कारण उन्हें भारत में संपत्ति अर्जित करने का अधिकार नहीं है।लेकिन पाकिस्तान के इस गायक अदनान सामी ने बिना रिजर्व बैंक की इजाजत के यहॉ भारत में संपत्ति अर्जित की है। यहॉ तक की अदनान सामी ने इन संपत्तियों को अर्जित करते समय बिल्ड़र और लोन लेते समय बैंक से भी अपनी पहचान छुपा रखी थी, और गलत दस्तावेजों के बल पर अदनान ने संपत्ति बनायी थी।2003 में अदनान द्वारा यह संपत्ति करीब ढाई करोड़ में खरीदी गयी,इसके बाद से प्रवर्त्तन निदेशालय अदनान से पहचान छुपाने और संपत्ति अर्जित करने के बारे में जबाब मॉग रही थी।

अदनान द्वारा कोई जबाब नहीं दिये जाने के बाद आज मजबुरन प्रवर्त्तन निदेशालय को उनकी संपत्ति जब्त करनी पड़ी।अदनान ने मुंबई के लोखंडवाला में ओबराय स्काई गार्डन में आठ फ्लैट और पाँच पार्किंग स्पेस खरीदा था। जिसमें से पॉच फ्लैट अदनान ने अपनी पत्नी सवा के नाम पर खरीदी थी।

आश्चर्य की बात तो यह है कि इतने पॉपुलर गायक अदनान सामी जिसके बारे में करीब-करीब हर कोई जानता है कि अदनान पाकिस्तान के रहने वाले हैं। क्या प्रवर्त्तन निदेशालय के अधिकारी, लोन देने वाले बैंकों के कर्मचारी, और बिल्ड़र अदनान के बारे में कुछ नहीं जानते थे।अगर ऐसा है तो प्रवर्त्तन निदेशालय को 2003 से 2010 तक का लम्बा समय ये पता करने मे हीं क्यूँ लग गया कि अदनान ने अपनी पहचान छुपाई थी। बैंक ने बिना पुख्ता जानकारी के अदनान को कर्ज कैसे मुहैया करा दिया, और बिल्डर ने बिना पूरी पडताल के अदनान को फ्लैट्स और पार्किंग स्पेस कैसे बेच दिया।खैर मामले में आगे प्रवर्त्तन निदेशालय जो भी कार्यवाही करे वह तो आगे देखी जायेगी लेकिन फिलहाल तो अदनान से उसका आशियाना छिन गया है। अदनान ने प्रवर्त्तन निदेशालय के इस संपत्ति जब्त कार्यवाही के बाद उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाने की बात कही है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें